FANDOM


Shanti suman
शांति सुमन (जन्म १५ सितंबर, १९४४ को कोसी अंचल के एक गॉंव कासिमपुर, सहरसा में) नवगीत की जानी मानी हस्ताक्षर हैं। वे नवगीत की पहली कवयित्री भी मानी जाती हैं।

कार्यक्षेत्र

लंगट सिंह कॉलेज, मुजफ्फरपुर से हिन्‍दी में स्‍नातकोत्‍तर उपाधि प्राप्‍त ने उसी कॉलेज में आजीविका भी पाई और ३३ वर्षों तक प्राध्‍यापन के बाद वहीं से वे प्रोफेसर एवं हिन्‍दी विभागाध्‍यक्ष के पद से २००४ में सेवामुक्‍त हुईं।  मध्यवर्गीय चेतना और हिंदी का आधुनिक काव्य विषय पर पीएच. डी. उपाधि प्राप्‍त डॉ; शांति सुमन 'सर्जना' (१९६३-६४, तीन अंक प्रकाशित), 'अन्‍यथा' (१९७१) और 'बीज' नामक पत्रिकाओं के संपादन से संबद्ध रहीं। उन्होंने १९६७ से १९९० के दौरान कवि सम्‍मेलनों एवं मंचों पर अपनी गीत-प्रस्‍तुति से अपार यश अर्जित किया।

पुरस्कार व सम्मान

-'भिक्षुक' (मुजफ्फरपुर का पत्र) द्वारा सम्‍मानपत्र, बिहार राष्‍ट्रभाषा परिषद का साहित्‍य सेवा सम्‍मान, हिन्‍दी साहित्‍य सम्‍मेलन (प्रयाग) का कविरत्‍न सम्‍मान, बिहार सरकार के राजभाषा विभाग का महादेवी वर्मा सम्‍मान, अवंतिका (दिल्‍ली) का विशिष्‍ट साहित्‍य सम्‍मान, मैथिली साहित्‍य परिषद का विद्यावाचस्‍पति सम्‍मान, हिन्‍दी प्रगति समिति का भारतेन्‍दु सम्‍मान एवं सुरंगमा सम्‍मान, विंध्‍य प्रदेश से साहित्‍य मणि सम्‍मान, हिन्‍दी साहित्‍य सम्‍मेलन का साहित्‍य भारती सम्‍मान (२००५) तथा उत्‍तर प्रदेश हिन्‍दी संस्‍थान का सौहार्द सम्‍मान (२००६)

प्रकाशित कृतियाँ

उनकी अन्य कृतियाँ हैं- छंदमुक्त कविताओं के संग्रह- सूखती नहीं वह नदी, उपन्यास- जल झुका हिरण मैथिली गीतों का संग्रह मेघ इंद्रनील


बाह्य सूत्र

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.