FANDOM


Kanbatiyan
२०११ में प्रकाशित कनबतियाँ, रचनाकार- महेश अनघ का दूसरा नवगीत संग्रह है। इसके प्रकाशक हैं अनुभव प्रकाशन, गाजियाबाद, और इसका मूल्य है १६० रूपये।

महेश अनघ हमारे समय के एक महत्वपूर्ण नवगीतकार हैं। झनन झकास के बाद अब कनबतियाँ शीर्षक से उनका दूसरा नवगीत संग्रह प्रकाशित हुआ है। महेश जी अपनी माटी के गीतकार हैं उनके इस संग्रह मे भी बुन्देली भाषा की लय और बिम्ब साफ दिखाई देते हैं। महेश जी के नवगीत ग्वालियर और उसके आसपास की माटी की खुशबू लिए हुए हैं। इसका अर्थ यह नही कि वे बुन्देलखंड तक सीमित है बल्कि कवि का अपनी जमीन पर जमे रहकर पूरे परिवेश को सम्बोधित करना बडी बात होती है।

बाह्य सूत्र

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.