FANDOM


Amarnath

अमरनाथ श्रीवास्तव (२१ जून १९३७-१५ नवंबर २००९ ) का जन्म गाज़ीपुर जनपद के ग्राम बौरवा में हुआ था। वे नवगीत और गजल के जाने माने रचनाकार माने जाते हैं। उनका कार्य क्षेत्र प्रयाग रहे। पहले जी० इ० सी० कम्पनी में काम किया और बाद में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लेकर माया प्रेस में काम किया

प्रकाशित कृतियाँEdit

नवगीत संग्रह- गेरू की लिपियाँ, दोपहर में गुलमोहर, मैं न कहूँ तो गजल संग्रह- आदमी को देखकर गीत संग्रह- है बहुत मुमकिन

पुरस्कार-सम्मानEdit

उत्तर-प्रदेश के प्रतिष्ठित निराला सम्मान से दो बार और साहित्य भूषण से एक बार अमरनाथ श्रीवास्तव को सम्मानित किया जा चुका है।

Community content is available under CC-BY-SA unless otherwise noted.